Uncategorized

अश्वगंधा के फायदे।

अश्वगंधा क्या है –

अश्वगंधा एक आयुर्वेदिक औषधि है। जो दुनिया में बहुत ज्यादा प्रचलित है। इसका वैज्ञानिक नाम विथानिया सोम्निफेरा है। अश्वगंधा भारत पैदा में की जाने वाली मुख्य औषधि है। यह मुख्यतः हिमाचल प्रदेश, पंजाब ,उत्तर प्रदेश, मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ़ इत्यादि में उगाया जाता है। इसे भारतीय गिनसेंग के रूप में भी जाना जाता है।

अश्वगंधा एक संस्कृत भाषा से लिया गया शब्द है। अश्वगंधा का यह नाम इसीलिए पड़ा क्योंकि इसमें से अश्व अर्थार्त घोड़े जैसी गंध आती है। इसके अलावा इसके सही प्रयोग से इससे घोड़े जैसी शक्ति और स्टैमिना भी बनता है। आज हम आपको अश्वगंधा के फायदे और नुकसान के अलावा इसको कैसे लेना है और किसको लेना है यह सब बताएंगे।

सबसे पहले हम अश्वगंधा के 20 फायदों के बारे में बात करते है –

अश्वगंधा के 20 फायदे-

1. मानसिक तनाव को खत्म करता है – अश्वगंधा में मुख्य रूप से पाया जाने वाला एडेप्टोजन नामक पदार्थ होता है। जो हमारे मानसिक तनाव का विरोध करता है। यह पदार्थ हमारे मानसिक तनाव को धीरे-धीरे खत्म कर देता है। नियमित और संतुलित मात्र में अश्वगंधा लेने से हमें तनाव से मुक्ति मिलती है।

2. मसल्स बिल्डिंग में सहायक – अश्वगंधा हमारे शरीर के टेस्टोस्टेरोन हार्मोन को बढ़ाता है। जिससे हमारी बॉडी के मसल्स अच्छे बनते हैं। यह हमारी बॉडी के मसल्स को अच्छा आकार देने में बहुत सहायक है।

3. अच्छी नींद में मदद करता है – अश्वगंधा हमें अच्छी नींद देने में सहायक होता है। यह हमारे तनाव को काम करता है जिसके कारण हमें अच्छी नींद आती है।

4. थकान मिटाता है – कौन था हमारे शरीर की थकान को कम करता है। यह हमारी थकान को मिटाता है और हमारी मसल्स रिकवरी में सहायता करता है।

5. दर्द से राहत देता है – अश्वगंधा में पाया जाने वाला एक गुण यह भी है कि यह हमारे शरीर में किसी भी प्रकार के होने वाले दर्द को कम करता है।

6. हमारी यौन शक्ति बढ़ाता है – यह गुण अश्वगंधा में पाया जाने वाला सबसे जबरदस्त गुण है। अश्वगंधा हमारी यौन शक्ति को असामान्य रूप से बढ़ाता है। यह हमारे तनाव को कम करके हमारी यौन शक्ति में एक स्फूर्ति ला देता है।

7. वीर्य की गुणवत्ता को बढ़ाता है – अश्वगंधा हमारे वीर्य की गुणवत्ता को बढ़ाता है। यह हमारे स्पर्म काउंट को भी बढ़ाने में मदद करता है। जिन लोगों को आजकल के तनावपूर्ण माहौल में बच्चे पैदा करने में परेशानी आती है उनको अश्वगंधा का सेवन जरूर करना चाहिए।

8. बुरे कोलेस्ट्रॉल को कम करके अच्छे कोलेस्ट्रॉल को बढ़ाता है – अश्वगंधा हमारे शरीर में बुरे कोलेस्ट्रॉल को खत्म करके अच्छे कोलेस्ट्रॉल को बढ़ाने में मदद करता है। जिस कारण हम अपने वजन पर भी नियंत्रण कर सकते हैं।

9. मधुमेह को कंट्रोल करता है – अश्वगंधा हमारे शरीर की शुगर लेवल को कम करके हमारे मधुमेह को कंट्रोल करता है।

10. मोटापा कम करता है – अश्वगंधा के नियमित सेवन से हम अपना मोटापा कम कर सकते हैं। क्योंकि यह हमारी भूख को कुछ हद तक कंट्रोल कर लेता है।

11. हृदय मजबूत बनाता है – कमजोर हृदय वाले व्यक्तियों के लिए अश्वगंधा की वरदान से कम नहीं है। क्योंकि इसे खाने से आपका हृदय मजबूत होता है।

12. कैंसर के खतरे को घटाता है – अश्वगंधा खाने से कैंसर का खतरा कम होता है। यह कैंसर कोशिकाओं को नियंत्रित करने में सहायक होता है।

13. एकाग्रता बढ़ाता है अश्वगंधा हमारी एकाग्रता बढ़ाने में सहायता करता है। यह हमें मानसिक रूप से मजबूत करता है।

14. ऊर्जा बढ़ाता है अश्वगंधा हमारे शरीर में ऊर्जा का संचार करता है। अश्वगंधा खाने से हमारे शरीर में ऊर्जा का स्तर बढ़ता है।

15. सूजन कम करता है – अश्वगंधा खाने से हमारे शरीर में किसी भी प्रकार की सूजन कम हो जाती है। यह हमारे शरीर में सूजन कम करने में सहायक होता है।

16. कॉर्टिसोल के स्तर को काम करता है – अश्वगंधा हमारे खून में पाए जाने वाले कॉर्टिसोल नामक तत्व को कम करके हमें बी. पी. के खतरे से बचाता है।

17. हार्मोनल संतुलन करता है – अश्वगंधा हमारे शरीर में हार्मोनल संतुलन का काम करता है। यह मुख्यतः महिलाओं में कॉर्टिसोल स्तर, प्रजन्न हार्मोन इत्यादि को संतुलित करने का काम करता है।

18. अच्छा कोलेस्ट्रॉल बढ़ाता है – अश्वगंधा हमारे शरीर में पूरे कोलेस्ट्रॉल के स्तर को काम करके अच्छा कोलेस्ट्रॉल बढ़ाने में मदद करता है। जिसे हमारा वजन तेजी से नियंत्रित होता है।

19. स्टेमिना बढ़ाता है अश्वगंधा हमारे शरीर में यौन शक्ति के साथ-साथ हमारे स्टैमिना को भी बढ़ाता है।

20. अर्थराइटिस में काम आता है – अश्वगंधा का एक उपयोग यह भी है किया है हमारे अर्थराइटिस के दर्द में बहुत ज्यादा काम आता है। इसके नियमित उपयोग से अर्थराइटिस में हमें बहुत सारा मिलता है और उसके कारण शरीर में जो भी सूजन आती है वह काम हो जाती है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *